Thursday, August 14, 2014

एक खिड़की शहर में खुलती है

हर शहर की अपनी कुछ अलग विशेषता है.मुंबई जैसे महानगर की भी अपनी ही चाल है.जीवन में ठहराव नहीं है.शायद, गति ही जीवन है,को इसने आत्मसात कर लिया है.अगर शोर की बात की जाय तो शोर का यहाँ अलग ही संगीत है जिससे राबता रखना सबके के वश का नहीं.

कई बार मुंबई आने पर एक ही समस्या से दो चार होना पड़ा है – वह है शोर.कमरे में फाईबर वाली स्लाइडिंग खिड़कियाँ हैं,जिसे खुला रखने पर गाड़ियों के शोर से रात भर नींद नहीं आती.हालांकि मुख्य सड़क से हटकर चंद कदमों की दूरी पर यह बिल्डिंग है.लेकिन सामने की सड़क पर भी रात भर गाड़ियों का शोर रहता है.अपने शहर में तो खिड़कियाँ खोलकर सोने की आदत है,क्योंकि बंद कमरे में दम घुटने लगता है,लेकिन यहाँ शोर का आतंक है.

बुनी पास्तरनाक की पंक्तियाँ याद आती हैं........

हवा में समुद्र की गंध
और धूप चढ़ रही है
कमरे की सीढ़ियों पर,धीमे-धीमे
रोशनदान रंगों में खुलते हैं !

लेकिन महानगरों के कमरों में रोशनदान कहां मिलते हैं.पुराने शहरों और गांवों में बने पहले के बने मकानों में अभी भी रोशनदान या वेंटिलेटर दिखाई दे जाते हैं.यहाँ सर्दियों में बंद दरवाजों और खिड़कियों के बावजूद सुबह-सुबह रोशनदान से झांकती सूर्य की सतरंगी किरणें उल्लासित कर जाती हैं.लेकिन अब बनने वाले मकानों से रोशनदान गायब हो गए हैं.

गांव में रोशनदान पर बैठी कोई गोरैया जैसी छोटी चिड़िया यदा-कदा ध्यान आकृष्ट कर लेती थी,पर अब  तो गांवों में भी बनने वाले मकानों में फैब्रिकेटेड अल्युमिनियम की खिड़कियाँ लग रही हैं.एक बार खिड़कियाँ बंद हो जाएं तो न तो धूप और न हवा के आने की गुंजाइश.बंद कमरों में पकते ख्याली पुलाव की गंध भी पड़ोसियों को नहीं लगती.पहले आस-पास सटे घरों में बनने वाली सब्जियों के छौंक से अंदाजा हो जाता था कि पड़ोस में क्या पक रहा है.

पर,अब निजता और गोपनीयता की बात होती है.अपने घर के दूसरे कमरे में होने वाली घटनाओं का अंदाजा नहीं होता.बदलते सामाजिक परिवेश में बहुत कुछ रीत गया है.अपने-पराये का भेद ज्यादा बड़ा हो गया है.मतभेद और मनभेद में बहुत बारीक़ सी रेखा है.अक्सर इनमें भेद का पता नहीं चलता.संबंधों के छीज जाने का सरलता से अंदाजा लगाया जा सकता है क्या?

रोशनदान,धूप और हवा के आपसी संबंध क्या कुछ नहीं कह जाते हैं?

18 comments:

  1. अपने-पराये का भेद ज्यादा बड़ा हो गया है.मतभेद और मनभेद में बहुत बारीक़ सी रेखा है.अक्सर इनमें भेद का पता नहीं चलता.संबंधों के छीज जाने का सरलता से अंदाजा लगाया जा सकता है क्या?
    महानगरों में रहने वाले लोग अपने ही रिश्तेदारों से मिल नहीं पाते पड़ोसियों की कौन कहे..हवा और धूप इन्सान को स्वस्थ रखने के लिए कितने आवश्यक हैं यह कौन नहीं जानता पर...

    ReplyDelete
  2. एसी के जमाने में अब खिड़कियों का अस्तित्व खतरे में है.

    ReplyDelete
  3. सटीक वर्णन आज के हालात के

    ReplyDelete
  4. आपकी यह उत्कृष्ट प्रस्तुति कल शुक्रवार (15.08.2014) को "विजयी विश्वतिरंगा प्यारा " (चर्चा अंक-1706)" पर लिंक की गयी है, कृपया पधारें और अपने विचारों से अवगत करायें, चर्चा मंच पर आपका स्वागत है, धन्यबाद।

    ReplyDelete
  5. Nice Post..
    Become Mod with Modular
    With every component of the house in order, the kitchen too needs special attention. It needs to rejuvenate after a hectic day’s toil just like you do.
    Let us all heartily welcome Modular Kitchens at Mobel. It is all set to wash away your worries and tensions when the kids ask for their favourite lasagne or your in laws complain about the sticky walls. Mobel’s modular kitchens are scientifically developed such that every bit of your kitchen is properly utilized. It is smart, sleek, durable and mod and comes in various shapes to suit your kitchen type.
    In earlier times, modular kitchens would use a single wall concept. Now there are no concepts, but you and your kitchen. We offer specialised custom made modular kitchens which fit into your space with a lot of finesse. The set up is portable and reusable and can be dismantled any time. The kitchen has a plethora of cabinets, therefore creating abundant space for your kitchen essentials. Thus, after chasing for targets the whole day you won’t need to chase for your pots and pans. Now fall in love once again, but with your kitchen. Revisit it all the time and cook up brand new concoctions and spread joy and wonders.
    http://www.mobelindia.com http://www.mobelhomestore.com
    Call us at Kolkata - 9051985555 / 9230064503, Bangalore - 7829577000 for a Free Site Visit and our Kitchen Designers will create a design for your kitchen absolutely Free!

    ReplyDelete
  6. आपकी इस रचना का लिंक दिनांकः 15 . 8 . 2014 दिन शुक्रवार को I.A.S.I.H पोस्ट्स न्यूज़ पर दिया गया है , कृपया पधारें धन्यवाद !

    ReplyDelete
  7. bahut badhiya alekh ....ateet aur vartman ke beech hindole leta hua ...

    ReplyDelete
  8. क्योंकि हम हवा से भी डरने लगे हैं.
    वो रातें,वो बातें वो खिडकियों से झांकते चांद-सूरज के
    इशारे----अब कहां?

    ReplyDelete
  9. वाह! बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति. समय की बयार में काफी कुछ बदल गया. आपको स्वतंत्रता दिवस मुबारक!

    ReplyDelete
  10. सच शहर की देखा देखी से गांव भी बदलने लगे हैं जिन्हें देख दिल में एक मूक वेदना जाग उठती है ..
    बहुत बढ़िया चिंतन

    ReplyDelete
  11. सुन्दर बहुत बढ़िया चिंतन
    वन्दे मातरम्

    ReplyDelete
  12. दलते सामाजिक परिवेश में बहुत कुछ रीत गया है.अपने-पराये का भेद ज्यादा बड़ा हो गया है.मतभेद और मनभेद में बहुत बारीक़ सी रेखा है.अक्सर इनमें भेद का पता नहीं ..
    प्रिय राजीव भाई ..
    बिलकुल सटीक ..आज के हालत को बयान करता आप का सुन्दर लेख..काश लोग दिली प्रेम को बढ़ावा दें रिश्ते प्राथमिक हो जाएँ तो आनंद और आये
    जन्माष्टमी की हार्दिक शुभ कामनाएं
    भ्रमर ५

    ReplyDelete
  13. बहुत सुन्दर और भावुक अभिव्यक्ति

    जन्माष्टमी की हार्दिक शुभकामनाऐं ----
    सादर --

    कृष्ण ने कल मुझसे सपने में बात की -------

    ReplyDelete