Thursday, April 2, 2015

रुके रुके से कदम

Top post on IndiBlogger.in, the community of Indian Bloggers

मखमूर देहलवी ने  खूब कहा है.....

एक न एक दिन अपनी मंजिल पर पहुँच लेंगे जरूर
जो कदम उठाते हैं आसानी से मुश्किल की तरफ

कदम तो मंजिल की तरफ सभी उठा लेते हैं लेकिन मंजिल तक पहुंचने का सब में माद्दा नहीं होता.मंजिल तक पहुंचने में कई बाधाएं आती हैं लेकिन जो डटे रहते हैं वे जरूर पहुँचते हैं.सफलता आसानी से नहीं मिलती.

असफलता के नाम से हम सभी डरते हैं.सफलता,समृद्धि तभी मिलती है,जब उसके बारे में सोचते हैं.जो व्यक्ति सिर्फ असफलता की बात सोचता है,सफलता उसके बस का रोग नहीं.सफल चिंतन को ही सफलता का वरदान प्राप्त है.बुरी घटनाओं,बुरी बातों से हमेशा ग्रस्त रहना अज्ञानता है.हमारा मन बहुत जल्दी भयभीत हो जाता है.इसे मन से दूर फेंकने का एक ही रास्ता है कि हम सकारात्मक सोचें.हम चिंतन करें,चिंता नहीं.

जीवन के सफ़र में बहुत से साथी मिलते हैं.कुछ मिलते हैं,जिन्हें दो पल याद रखते हैं.कुछ साथी कुछ दिन याद रहते हैं.फिर उनकी छवि धूमिल पड़ने लगती है.यादों की धुरी में आदर्श या प्रेरणा को संयोग से व्यक्ति बहुत कम अनुभव कर पाते हैं.

कभी-कभी एक साधारण सा व्यक्ति अपनी बातों,अपने काम,और अपने व्यक्तित्व से दूसरों को इस हद तक प्रभावित कर देता है कि अनजाने में ही वह प्ररणा बन जाता है.व्यक्तित्व केवल शारीर का उपरी,उसका बोलना,चलना,उठना,बैठना इन सबके साथ-साथ व्यक्ति के व्यक्तित्व के लिए जरूरी है उसका संबंध,उसके विचारों,उसके मन और उसके भीतर छिपी शक्तियों से है.कई बार हममें आत्मविश्वास की कमी के कारण अपने सामर्थ्य पर ही भरोसा नहीं हो पाता.

अपने भीतर जब झांकते हैं तो सबसे पहले चिंता और भय की आवाज सुनाई देती है.पूरा शरीर इसी से त्रस्त दीखता है.असफलता के नाम से हम डरते हैं.आज के प्रतियोगी युग ने मनुष्य को उपहार ने निराशा दी है.मन के भीतर किसी कोने में दुबकी ये निराशा मन पर बार-बार चोट करती है.सजे सुन्दर कमरों में बैठा निराशा से ग्रस्त थका-हारा मानव बहुत जल्दी टूटने लगा है.हम अपने ही विचारों से डर गए हैं.आशा एक सशक्त चुंबक है और वह अभ्यास से प्राप्त होती है.यह हमारी सबसे बड़ी पूंजी है.

आशा का दीपक पथ प्रशस्त करता है.आशा बनी रहे,इसलिए स्वामी विवेकानंद के विचार बहुत सुंदर हैं,”वह बात मन में ही न लाओ,जो तुम व्यक्त नहीं करना चाहते.”

सुख-सुविधाओं से पूर्ण आराम का जीवन सभी को प्यारा होता है.अपने लक्ष्य को पाने के लिए जब प्रयत्न करते हैं,तब अच्छे-बुरे दोनों तरह के लोग संपर्क में आते हैं,जो लोग हमारी बुराई करते हैं,उनसे हम दूर रहना चाहते हैं.यह एक स्वाभाविक प्रवृत्ति है.यदि हमें अपने आपको तराशना है,तो अपनी गलतियों को सुनिए,समझिए और चिंतन करिए ताकि आप मुक्ति पा सकें.

आज के मशीनी युग ने मनुष्य को यंत्रवत जीवन जीना सिखा दिया है.करुणा,दया,प्रेम,क्षमा ये सब नाम मात्र के लिए रह गई हैं.आज का चतुर मनुष्य समय के महत्त्व को पहचान चतुरता से धन कमाने की बात सोचने लगा है.सुख-दु:ख आपके अपने भीतर हैं.

हमारे मन की जो स्थिति होती है,हम हर एक चीज को उसी के रंग में रंग लेते हैं.हमारे मन के भाव सुंदर हैं तो चीज भी सुंदर है और हमारी मनस्थिति असुंदर तो चीज भी असुंदर जान पड़ती है.हमें अपने लक्ष्य की और बढ़ना है,पर यंत्रवत नहीं बल्कि अपने भीतर छोटी-छोटी खुशियों को समेटकर आगे बढ़ें.

व्यक्तित्व को उभरने के लिए आत्मविश्वास साहस का पर्याय है.मनुष्य की महानता साहस से मापी जाती है.शेक्सपियर ने कहा है कि,’साहस अवसर पहचानता है.’ हर रात सोने से पहले यह सोचें कि ‘मैं कर सकता हूँ और करूंगा.’ आत्मविश्वास से साहस की भावना पढ़ती है.लड़खड़ाते क़दमों से मंजिल तय नहीं की जा सकती है.कार्लाइल का कहना है कि ‘अपने काम को समझो और फिर दानव की तरह उस पर पिल पड़ो.’अपने आप जब अपने मन से बातें करते हैं तो शरीर के सेलों से घृणा,झूठ की बात न करके श्रेष्ठ भावना की बात करें.

मकड़ी के जालों की तरह विचार हमारे चारों ओर मंडराते हैं.अपने आपको प्रधानता देने के लिए बार-बार हमारी सोच अपने आप पर केंद्रित हो जाती है.दिन भर में ढेर सारे सही-गलत कार्यों को करने के बाद आत्मचिंतन जरूरी है.आदर्शों के विरुद्ध कोई भी काम करने पर मन में अंतर्द्वंद च्क्ल्ता रहता है.इससे बाहर निकलने के लिए जरूरी है कि अपनी गलती को स्वीकार कर आगे बढ़ने का प्रयास किया जाय.

अपने भीतर जो भी सृजन का अंकुर फूटा है,उसे दबाएं नहीं.कला,चित्रकारी,लेखन,कविता जिस भी रूप में धारा प्रवाहित हो उसे बहने देना ही उचित है.हम स्वयं ही पहचान सकते हैं कि कला का कौन सा कोना अपने मन को छूता है.जीवन अमूल्य है,समय की गति के साथ अपनी रचनात्मक क्षमता को पहचानना चाहिए.

Keywords खोजशब्द :- Key to Positive Thinking,Creativity

25 comments:

  1. Nice post..:)
    Please do check mine and comment :

    https://www.indiblogger.in/indipost.php?post=452573

    ReplyDelete
  2. स्वामी विवेकानंद के विचार बहुत सुंदर हैं,”वह बात मन में ही न लाओ,जो तुम व्यक्त नहीं करना चाहते.”............bahut sundar aur sakaratmkta se bhra alekh ....

    ReplyDelete
  3. बढ़िया प्रस्तुति...

    ReplyDelete
  4. कार्लाइल का कहना है कि ‘अपने काम को समझो और फिर दानव की तरह उस पर पिल पड़ो.’अपने आप जब अपने मन से बातें करते हैं तो शरीर के सेलों घृणा,झूठ की बात न करके श्रेष्ठ भावना की बात करें
    ..प्रिय राजीव भाई ..सुविचार प्रेरक ,,अच्छी प्रस्तुति
    भ्रमर ५

    ReplyDelete
  5. बहुत ही सुन्दर जीवनोपयोगी प्रस्तुति हेतु आभार!

    ReplyDelete
  6. सुन्दर ,सकारात्मक प्रस्तुति !

    ReplyDelete
  7. आशा और निरंतर सकारात्मक सोच और विचार रखने का सुन्दर मन्त्र देती है ये पोस्ट ... बहुत ही अच्छे पोस्ट ...

    ReplyDelete
  8. हार्दिक मंगलकामनाओं के आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल शुक्रवार (03-04-2015) को "रह गई मन की मन मे" { चर्चा - 1937 } पर भी होगी!
    --
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
  9. धैर्य एक बहुत बड़ा अस्त्र है सफल होने के लिए..

    ReplyDelete
  10. सुन्दर आलेख

    ReplyDelete
  11. सुन्दर प्रस्तुति

    ReplyDelete
  12. बेहद सुन्दर प्रस्तुति....!
    .
    .
    आभार एक सकारात्मक आलेख के लिऐ..!!

    ReplyDelete
  13. बेहद सुन्दर प्रस्तुति....!
    .
    .
    आभार एक सकारात्मक आलेख के लिऐ..!!

    ReplyDelete
  14. रूके रूके से कदम, बहुत शानदार रचना के रूप में प्रस्‍तुत हुई है। धन्‍यवाद आपको।

    ReplyDelete
  15. सुंदर, सकारात्मक संदेश देता सार्थक लेख

    ReplyDelete
  16. सुन्दर अति सुंदर लेख......

    ReplyDelete
  17. बहुत सुन्दर सृजन, बधाई
    मेरे ब्लाग पर भी आप जैसे गुणीजनो का मार्गदर्शन प्रार्थनीय है

    ReplyDelete
  18. आदरणीय झा साहब आपका ब्लॉग बहुत दिन से पढ़ रहा हूँ। अति उत्तम है।

    ReplyDelete
  19. प्रेरणा दायी रचना

    ReplyDelete
  20. Nice Article sir, Keep Going on... I am really impressed by read this. Thanks for sharing with us.. Happy Independence Day 2015, Latest Government Jobs. Top 10 Website

    ReplyDelete
  21. aap bahut achcha likhte hain....aapke lekh pad kar bahut achcha laga....

    ReplyDelete
  22. संग्रह योग्य

    ReplyDelete